Top 15 Best Places to visit in Odisha | Odisha Me Ghumne ki Jagah

ओडिशा, भारत का एक प्रमुख राज्य, अपनी सांस्कृतिक धरोहर, प्राकृतिक सुंदरता और ऐतिहासिक महत्व के लिए प्रसिद्ध है। यहां पर्यटकों के लिए कई महत्वपूर्ण स्थल हैं जो देश-विदेश के लोगों को आकर्षित करते हैं। इस लेख में, हम ओडिशा के दस सबसे अधिक देखे जाने वाले स्थानों के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे।

Table of Contents

1. पुरी जगन्नाथ मंदिर (Puri Jagannath Temple Best Places to visit in Odisha)

Puri Jagannath Temple
Puri Jagannath Temple

पुरी का जगन्नाथ मंदिर न केवल ओडिशा बल्कि पूरे भारत का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह मंदिर भगवान जगन्नाथ (श्रीकृष्ण), बलभद्र (बलराम) और सुभद्रा को समर्पित है।

मंदिर का इतिहास और महत्व:

जगन्नाथ मंदिर का निर्माण 12वीं शताब्दी में गंग वंश के राजा अनंगभीमदेव ने कराया था। इस मंदिर का वास्तुकला अद्वितीय है और यह चार धाम यात्राओं में से एक है।

पुरी, ओडिशा का एक प्रमुख धार्मिक स्थल, विशेष रूप से जगन्नाथ मंदिर के लिए प्रसिद्ध है। यह चार धाम यात्राओं में से एक है, और भगवान जगन्नाथ, बलभद्र और सुभद्रा के रथ यात्रा के लिए विश्व प्रसिद्ध है। हर साल लाखों भक्त यहां आते हैं। समुद्र तट पर स्थित यह स्थान पर्यटकों के लिए एक आकर्षक गंतव्य है, जहां वे सूर्योदय और सूर्यास्त का आनंद ले सकते हैं।

पुरी में अन्य महत्वपूर्ण स्थलों में गुंडिचा मंदिर, लोकनाथ मंदिर, और स्वर्गद्वार समुद्र तट शामिल हैं। गुंडिचा मंदिर, जहां रथ यात्रा के दौरान भगवान जगन्नाथ विराजते हैं, भक्तों के लिए विशेष महत्व रखता है। लोकनाथ मंदिर भगवान शिव को समर्पित है और यह कहा जाता है कि यहां का जल हर प्रकार की बीमारियों को ठीक कर सकता है। स्वर्गद्वार समुद्र तट हिंदू धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, मृतकों की आत्माओं की मोक्ष प्राप्ति के लिए महत्वपूर्ण है।

विशेषताएँ:

  • रथ यात्रा: हर साल यहाँ प्रसिद्ध रथ यात्रा आयोजित होती है, जिसमें लाखों भक्त शामिल होते हैं।
  • प्रसाद: यहां का महाप्रसाद बहुत प्रसिद्ध है, जिसे भक्तजन अत्यधिक श्रद्धा से ग्रहण करते हैं।
  • आधुनिक सुविधाएँ: मंदिर के आसपास आधुनिक सुविधाएं भी विकसित की गई हैं, जिससे पर्यटकों को कोई असुविधा न हो।

पर्यटकों के लिए महत्वपूर्ण जानकारी:

  • समय: मंदिर का द्वार सुबह 5 बजे से रात 11 बजे तक खुला रहता है।
  • एंट्री फीस: मंदिर में प्रवेश नि:शुल्क है, लेकिन विशेष दर्शनों के लिए टिकट की व्यवस्था है।
  • आवास: पुरी में विभिन्न प्रकार के होटल और धर्मशालाएं उपलब्ध हैं।

2. कोणार्क सूर्य मंदिर (Konark Sun Temple Best Places to visit in Odisha)

Konark Sun Temple
Konark Sun Temple

कोणार्क का सूर्य मंदिर ओडिशा के सबसे प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। इसे ब्लैक पैगोडा के नाम से भी जाना जाता है।

कोणार्क अपने विश्व धरोहर स्थल सूर्य मंदिर के लिए प्रसिद्ध है। यह 13वीं सदी का मंदिर है, जिसे राजा नरसिम्हा देव प्रथम ने बनवाया था। यह मंदिर एक विशाल रथ के आकार का है, जिसे 12 जोड़ी पहियों और सात घोड़ों द्वारा खींचा जा रहा है। यह वास्तुकला का अद्वितीय उदाहरण है और हर साल हजारों पर्यटक इसे देखने आते हैं।

कोणार्क का समुद्र तट भी पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र है। यहां सूर्यास्त और सूर्योदय का दृश्य अद्वितीय होता है। इसके अलावा, कोणार्क डांस फेस्टिवल भी आयोजित होता है, जिसमें भारतीय शास्त्रीय नृत्य प्रस्तुतियां दी जाती हैं। यह उत्सव नृत्य और संगीत प्रेमियों के लिए विशेष रूप से आकर्षक होता है।

मंदिर का इतिहास और महत्व:

सूर्य मंदिर का निर्माण 13वीं शताब्दी में पूर्वी गंग वंश के राजा नरसिम्हदेव प्रथम ने कराया था। इसे यूनेस्को द्वारा विश्व धरोहर स्थल घोषित किया गया है।

विशेषताएँ:

  • वास्तुकला: मंदिर की वास्तुकला अद्वितीय है, जिसमें विशाल रथ के रूप में इसे बनाया गया है।
  • शिल्पकला: मंदिर की दीवारों पर अद्भुत शिल्पकला और मूर्तिकला का काम किया गया है, जो पर्यटकों को मंत्रमुग्ध कर देता है।
  • उत्सव: यहां हर साल कोणार्क डांस फेस्टिवल का आयोजन किया जाता है, जो पर्यटकों के बीच बेहद लोकप्रिय है।

पर्यटकों के लिए महत्वपूर्ण जानकारी:

  • समय: मंदिर का प्रवेश सुबह 6 बजे से शाम 8 बजे तक है।
  • एंट्री फीस: भारतीय नागरिकों के लिए प्रवेश शुल्क 40 रुपये और विदेशी पर्यटकों के लिए 600 रुपये है।
  • आवास: कोणार्क में कई होटल और रिसॉर्ट्स उपलब्ध हैं, जो हर बजट के अनुसार सुविधाएं प्रदान करते हैं।

3. चिल्का झील (Chilika Lake)

Chilka Lake
Chilka Lake

चिल्का झील एशिया की सबसे बड़ी खारे पानी की झील है और यह ओडिशा के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है।

झील का इतिहास और महत्व:

चिल्का झील एक महत्वपूर्ण पारिस्थितिकी तंत्र है और इसे रामसर साइट के रूप में मान्यता प्राप्त है। यह झील हजारों प्रवासी पक्षियों का आश्रय स्थल है।

चिल्का झील एशिया की सबसे बड़ी खारे पानी की झील है और यह ओडिशा के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। यह झील प्रवासी पक्षियों के लिए एक स्वर्ग है और यहां सर्दियों के मौसम में लाखों पक्षी आते हैं। नलाबाना पक्षी अभयारण्य, जो झील के बीच में स्थित है, पक्षी प्रेमियों के लिए एक प्रमुख आकर्षण है।

चिल्का झील में कालीजाई मंदिर भी है, जो देवी काली को समर्पित है और यहां हर साल मकर संक्रांति पर एक बड़ा मेला आयोजित होता है। इसके अलावा, झील में बोटिंग और मछली पकड़ने की सुविधा भी उपलब्ध है, जो पर्यटकों को आकर्षित करती है।

विशेषताएँ:

  • विविधता: झील में लगभग 160 प्रकार की मछलियाँ पाई जाती हैं और यह झील डॉल्फिन देखने के लिए प्रसिद्ध है।
  • पक्षी अभयारण्य: यह झील पक्षी प्रेमियों के लिए स्वर्ग है, खासकर सर्दियों के मौसम में।
  • नौका विहार: पर्यटक यहाँ नौका विहार का आनंद ले सकते हैं, जो एक अविस्मरणीय अनुभव है।

पर्यटकों के लिए महत्वपूर्ण जानकारी:

  • समय: झील का भ्रमण पूरे वर्ष किया जा सकता है, लेकिन नवंबर से फरवरी का समय सर्वोत्तम माना जाता है।
  • एंट्री फीस: झील में प्रवेश नि:शुल्क है, लेकिन नौका विहार के लिए शुल्क देना पड़ता है।
  • आवास: चिल्का झील के पास कई रिसॉर्ट्स और होमस्टे उपलब्ध हैं, जो पर्यटकों को आरामदायक ठहरने की सुविधा प्रदान करते हैं।

4. भुवनेश्वर का लिंगराज मंदिर (Lingaraj Temple Best Places to visit in Odisha)

Lingaraj Temple
Lingaraj Temple

भुवनेश्वर का लिंगराज मंदिर भगवान शिव को समर्पित एक प्रमुख धार्मिक स्थल है।

भुवनेश्वर (Bhubaneswar)

भुवनेश्वर, ओडिशा की राजधानी, मंदिरों का शहर है। इसे ‘टेम्पल सिटी ऑफ इंडिया’ के नाम से भी जाना जाता है। यहां का लिंगराज मंदिर सबसे महत्वपूर्ण मंदिरों में से एक है, जो भगवान शिव को समर्पित है। यह मंदिर 11वीं सदी का है और यहां की वास्तुकला अद्वितीय है।

भुवनेश्वर में अन्य प्रमुख आकर्षणों में मुक्टेश्वर मंदिर, राजा रानी मंदिर, और उदयगिरि और खंडगिरि गुफाएं शामिल हैं। मुक्टेश्वर मंदिर अपनी खूबसूरत तोरण और उत्कृष्ट नक्काशी के लिए प्रसिद्ध है। राजा रानी मंदिर, हालांकि किसी भी देवता को समर्पित नहीं है, फिर भी अपनी वास्तुकला के लिए मशहूर है। उदयगिरि और खंडगिरि गुफाएं प्राचीन जैन गुफाएं हैं, जिनमें कई महत्वपूर्ण शिलालेख और मूर्तियां हैं।

मंदिर का इतिहास और महत्व:

लिंगराज मंदिर का निर्माण 11वीं शताब्दी में सोमवंशी राजा ययाति केशरी ने कराया था। यह मंदिर 180 फीट ऊंचा है और इसकी वास्तुकला ओडिशा की कलिंग शैली का उत्कृष्ट उदाहरण है।

विशेषताएँ:

  • महाशिवरात्रि: मंदिर में महाशिवरात्रि का उत्सव बड़े धूमधाम से मनाया जाता है।
  • जलाशय: मंदिर परिसर में एक विशाल जलाशय है, जिसे बिंदुसागर के नाम से जाना जाता है।
  • अन्य मंदिर: मुख्य मंदिर के आसपास कई छोटे-छोटे मंदिर भी हैं, जो पूरे क्षेत्र को धार्मिक महत्व प्रदान करते हैं।

पर्यटकों के लिए महत्वपूर्ण जानकारी:

  • समय: मंदिर का द्वार सुबह 6 बजे से रात 9 बजे तक खुला रहता है।
  • एंट्री फीस: मंदिर में प्रवेश नि:शुल्क है।
  • आवास: भुवनेश्वर में विभिन्न प्रकार के होटल और लॉज उपलब्ध हैं।

5. धौलीगिरि (Dhauligiri Best Places to visit in Odisha)

Dhauligiri
Dhauligiri

धौलीगिरि भुवनेश्वर के पास स्थित एक ऐतिहासिक स्थल है, जो महान सम्राट अशोक के कलिंग युद्ध के बाद बौद्ध धर्म अपनाने की गवाही देता है।

स्थल का इतिहास और महत्व:

धौलीगिरि की पहाड़ियों पर स्थित शांति स्तूप (Peace Pagoda) एक महत्वपूर्ण बौद्ध स्थल है। यह स्थल अशोक के शिलालेखों के लिए प्रसिद्ध है।

विशेषताएँ:

  • शांति स्तूप: धौलीगिरि का शांति स्तूप एक सफेद रंग का खूबसूरत स्मारक है, जो शांति और अहिंसा का प्रतीक है।
  • अशोक के शिलालेख: यहाँ पर सम्राट अशोक के शिलालेख देखे जा सकते हैं, जो उनकी बौद्ध धर्म की स्वीकृति का प्रतीक हैं।
  • दृश्य: धौलीगिरि से आप भुवनेश्वर का सुंदर दृश्य देख सकते हैं, जो पर्यटकों को बेहद पसंद आता है।

पर्यटकों के लिए महत्वपूर्ण जानकारी:

  • समय: धौलीगिरि का भ्रमण सुबह 6 बजे से शाम 7 बजे तक किया जा सकता है।
  • एंट्री फीस: यहाँ प्रवेश नि:शुल्क है।
  • आवास: भुवनेश्वर में कई होटल और गेस्ट हाउस उपलब्ध हैं।

6. नंदनकानन जूलॉजिकल पार्क (Nandankanan Zoological Park Best Places to visit in Odisha)

Nandankanan Zoological Park
Nandankanan Zoological Park

नंदनकानन जूलॉजिकल पार्क भुवनेश्वर में स्थित एक प्रमुख वन्यजीव उद्यान है, जो पर्यटकों और वन्यजीव प्रेमियों के लिए आकर्षण का केंद्र है।

पार्क का इतिहास और महत्व:

नंदनकानन जूलॉजिकल पार्क की स्थापना 1960 में हुई थी और इसे 1979 में राष्ट्रीय उद्यान का दर्जा प्राप्त हुआ।

विशेषताएँ:

  • विविधता: पार्क में विभिन्न प्रकार के वन्यजीव देखे जा सकते हैं, जिनमें सफेद बाघ, एशियाई शेर, और भारतीय हाथी प्रमुख हैं।
  • बायोलॉजिकल पार्क: यहाँ एक बायोलॉजिकल पार्क भी है, जो दुर्लभ पौधों और वृक्षों का संरक्षण करता है।
  • सफारी: पर्यटकों के लिए व्हाइट टाइगर और लायन सफारी का भी आयोजन किया जाता है।

पर्यटकों के लिए महत्वपूर्ण जानकारी:

  • समय: पार्क का समय सुबह 7:30 बजे से शाम 5:30 बजे तक है, सोमवार को यह बंद रहता है।
  • एंट्री फीस: वयस्कों के लिए 50 रुपये और बच्चों के लिए 10 रुपये का प्रवेश शुल्क है।
  • आवास: भुवनेश्वर में ठहरने के कई विकल्प उपलब्ध हैं।

7. रत्नागिरी (Ratnagiri Best Places to visit in Odisha)

Ratnagiri
Ratnagiri

रत्नागिरी ओडिशा का एक प्रमुख बौद्ध स्थल है, जहाँ बौद्ध मठ और स्तूप हैं।

स्थल का इतिहास और महत्व:

रत्नागिरी का इतिहास 5वीं शताब्दी से जुड़ा है, जब यह एक प्रमुख बौद्ध शिक्षा का केंद्र था।

विशेषताएँ:

  • मठ: यहाँ बौद्ध मठों के अवशेष देखे जा सकते हैं, जो उस समय की बौद्ध शिक्षा और संस्कृति को दर्शाते हैं।
  • स्तूप: रत्नागिरी में कई स्तूप हैं, जो बौद्ध धर्म के महत्वपूर्ण स्थल हैं।
  • पुरातत्व संग्रहालय: यहाँ एक पुरातत्व संग्रहालय भी है, जिसमें बौद्ध मूर्तियाँ और अन्य पुरातात्विक अवशेष प्रदर्शित हैं।

पर्यटकों के लिए महत्वपूर्ण जानकारी:

  • समय: रत्नागिरी का भ्रमण सुबह 6 बजे से शाम 6 बजे तक किया जा सकता है।
  • एंट्री फीस: यहाँ प्रवेश नि:शुल्क है।
  • आवास: रत्नागिरी में ठहरने के सीमित विकल्प हैं, लेकिन पास के शहरों में कई होटल उपलब्ध हैं।

8. उदयगिरि और खंडगिरि की गुफाएँ (Udayagiri and Khandagiri Caves Best Places to visit in Odisha)

Udayagiri and Khandagiri Caves
Udayagiri and Khandagiri Caves

उदयगिरि और खंडगिरि की गुफाएँ भुवनेश्वर के पास स्थित प्राचीन जैन गुफाएँ हैं।

उदयगिरि और खंडगिरि गुफाएं भुवनेश्वर के पास स्थित प्राचीन जैन गुफाएं हैं। ये गुफाएं दूसरी सदी ईसा पूर्व की हैं और यहां कई महत्वपूर्ण शिलालेख और मूर्तियां हैं। उदयगिरि का अर्थ ‘उदय की पहाड़ी’ है, जबकि खंडगिरि का अर्थ ‘खंड की पहाड़ी’ है।

उदयगिरि में रानी गुफा, हाथीगुम्फा, और गणेशगुम्फा प्रमुख गुफाएं हैं। रानी गुफा अपनी वास्तुकला और शिल्प कौशल के लिए प्रसिद्ध है। हाथीगुम्फा में कलिंग राजा खारवेल के शिलालेख हैं, जो उनकी उपलब्धियों का वर्णन करते हैं। खंडगिरि में प्रमुख गुफाएं तात्तवारलेन का गुफा और अनंत गुफा हैं।

गुफाओं का इतिहास और महत्व:

इन गुफाओं का निर्माण 1वीं शताब्दी ईसा पूर्व में किया गया था और यह जैन धर्म के प्रमुख स्थलों में से एक हैं।

विशेषताएँ:

  • प्राचीन शिलालेख: गुफाओं में प्राचीन शिलालेख और मूर्तियाँ हैं, जो उस समय की कला और संस्कृति को दर्शाते हैं।
  • हथीगुम्फा: उदयगिरि की हथीगुम्फा गुफा सबसे प्रमुख है, जिसमें राजा खारवेल का शिलालेख है।
  • दृश्य: गुफाओं से आप भुवनेश्वर का सुंदर दृश्य देख सकते हैं।

पर्यटकों के लिए महत्वपूर्ण जानकारी:

  • समय: गुफाओं का भ्रमण सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक किया जा सकता है।
  • एंट्री फीस: भारतीय नागरिकों के लिए प्रवेश शुल्क 25 रुपये और विदेशी पर्यटकों के लिए 300 रुपये है।
  • आवास: भुवनेश्वर में कई होटल और गेस्ट हाउस उपलब्ध हैं।

9. हीराकुद बांध (Hirakud Dam Best Places to visit in Odisha)

Hirakud Dam
Hirakud Dam

हीराकुद बांध ओडिशा के संबलपुर जिले में स्थित एक प्रमुख पर्यटन स्थल है।

बांध का इतिहास और महत्व:

हीराकुद बांध Best Places to visit in Odisha का निर्माण 1957 में महानदी नदी पर किया गया था और यह एशिया का सबसे लंबा मिट्टी का बांध है।

हीराकुड बांध, संबलपुर में महानदी नदी पर बना है और यह विश्व का सबसे लंबा मिट्टी का बांध है। इस बांध की लंबाई लगभग 25.8 किलोमीटर है और यह भारत के प्रमुख इंजीनियरिंग चमत्कारों में से एक है। यह बांध बाढ़ नियंत्रण, सिंचाई, और बिजली उत्पादन के लिए महत्वपूर्ण है।

हीराकुड बांध के पास हिराकुद जलाशय स्थित है, जो एक विशाल जलाशय है और यहां नौकायन और मछली पकड़ने की सुविधा उपलब्ध है। पर्यटक यहां से बांध और जलाशय का अद्वितीय दृश्य देख सकते हैं। इसके अलावा, बांध के पास गांधी मीनार और नेहरू मीनार भी हैं, जहां से पर्यटक बांध और इसके आसपास के क्षेत्र का खूबसूरत दृश्य देख सकते हैं।

ओडिशा के ये 11 प्रमुख पर्यटन स्थल अपने आप में अद्वितीय हैं और हर साल लाखों पर्यटकों को आकर्षित करते हैं। इन स्थलों की यात्रा न केवल धार्मिक और सांस्कृतिक दृष्टि से महत्वपूर्ण है, बल्कि ये स्थान प्राकृतिक सुंदरता और ऐतिहासिक महत्व के कारण भी विशेष हैं। अगर आप ओडिशा की यात्रा की योजना बना रहे हैं, तो इन स्थलों को अपनी सूची में अवश्य शामिल करें।

विशेषताएँ:

  • बांध की लंबाई: बांध की कुल लंबाई 25.8 किमी है, जो इसे दुनिया के सबसे लंबे बांधों में से एक बनाती है।
  • वॉच टावर: बांध पर दो प्रमुख वॉच टावर हैं – गांधी मीनार और नेहरू मीनार, जहाँ से पर्यटक बांध का सुंदर दृश्य देख सकते हैं।
  • झील: बांध की झील में नौका विहार का भी आयोजन किया जाता है, जो पर्यटकों को आकर्षित करता है।

पर्यटकों के लिए महत्वपूर्ण जानकारी:

  • समय: बांध का भ्रमण सुबह 6 बजे से शाम 6 बजे तक किया जा सकता है।
  • एंट्री फीस: यहाँ प्रवेश नि:शुल्क है।
  • आवास: संबलपुर में कई होटल और गेस्ट हाउस उपलब्ध हैं।

10. तारातारिणी मंदिर (Tara Tarini Temple Best Places to visit in Odisha)

Tara Tarini Temple
Tara Tarini Temple

तारातारिणी मंदिर ओडिशा के गंजाम जिले में स्थित एक प्रमुख धार्मिक स्थल है।

मंदिर का इतिहास और महत्व:

तारातारिणी मंदिर शक्तिपीठों में से एक है और यह तारात्रिणी देवी को समर्पित है।

विशेषताएँ:

  • शक्तिपीठ: यह मंदिर 51 शक्तिपीठों में से एक है और यहाँ हर साल चैत्रमास में मेला लगता है।
  • परिसर: मंदिर का परिसर बहुत ही सुंदर और हरा-भरा है, जहाँ पर्यटक शांति और आध्यात्मिकता का अनुभव कर सकते हैं।
  • चढ़ाई: मंदिर तक पहुँचने के लिए 999 सीढ़ियाँ चढ़नी पड़ती हैं, जो एक अद्भुत अनुभव है।

पर्यटकों के लिए महत्वपूर्ण जानकारी:

  • समय: मंदिर का द्वार सुबह 5 बजे से रात 9 बजे तक खुला रहता है।
  • एंट्री फीस: यहाँ प्रवेश नि:शुल्क है।
  • आवास: गंजाम जिले में ठहरने के कई विकल्प उपलब्ध हैं।

ओडिशा की इन प्रमुख पर्यटन स्थलों की यात्रा करना न केवल रोमांचक है बल्कि यहां की सांस्कृतिक और प्राकृतिक धरोहर को समझने का एक अद्वितीय अवसर भी प्रदान करता है। इन स्थलों के अद्वितीय आकर्षण और महत्व ने ओडिशा को एक महत्वपूर्ण पर्यटन स्थल के रूप में स्थापित किया है।

11. दुधेश्वर झरना (Dudhsagar Waterfall)

Dudhsagar-Waterfall
Dudhsagar-Waterfall

दुधेश्वर झरना ओडिशा के संबलपुर जिले में स्थित है और यह राज्य का सबसे ऊंचा झरना है। यह हरी-भरी जंगलों के बीच स्थित है और अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए प्रसिद्ध है। झरने का नाम दुधेश्वर इसलिए पड़ा क्योंकि इसके गिरने वाले पानी का रंग दूध की तरह सफेद दिखता है।

दुधेश्वर झरना का मुख्य आकर्षण इसकी ऊंचाई और इसकी धारा का अद्वितीय दृश्य है। यह स्थान ट्रेकिंग और पिकनिक के लिए आदर्श है। इसके अलावा, यहां का शांत और शांतिपूर्ण वातावरण पर्यटकों को आराम और प्रकृति के साथ जुड़ने का मौका देता है।

12. सिमिलीपाल राष्ट्रीय उद्यान (Simlipal National Park)

Simlipal-National-Park
Simlipal-National-Park

सिमिलीपाल राष्ट्रीय उद्यान ओडिशा के मयूरभंज जिले में स्थित है और यह एक बाघ अभयारण्य भी है। यह उद्यान अपनी विविध वनस्पतियों और जीवों के लिए प्रसिद्ध है। यहां विभिन्न प्रकार के वनस्पति और वन्यजीव पाए जाते हैं, जिसमें बाघ, हाथी, और विभिन्न प्रकार के पक्षी शामिल हैं।

सिमिलीपाल राष्ट्रीय उद्यान में जोरंडा और बरेहीपानी झरने प्रमुख आकर्षण हैं। जोरंडा झरना ओडिशा का दूसरा सबसे ऊंचा झरना है। बरेहीपानी झरना भी अद्वितीय है और यह शिमलीपाल के हरे-भरे जंगलों के बीच स्थित है। यह स्थान वन्यजीव प्रेमियों और प्रकृति प्रेमियों के लिए आदर्श है।

13. चंद्रभागा समुद्र तट (Chandrabagha Beach)

Chandrabagha-Beach
Chandrabagha-Beach

चंद्रभागा समुद्र तट कोणार्क के पास स्थित है और यह अपने साफ-सुथरे और सुंदर तटरेखा के लिए प्रसिद्ध है। यह समुद्र तट सूर्यास्त और सूर्योदय के अद्भुत दृश्यों के लिए जाना जाता है। हर साल माघ सप्तमी के अवसर पर यहां बड़ा मेला आयोजित होता है, जिसमें हजारों श्रद्धालु भाग लेते हैं।

चंद्रभागा समुद्र तट का पानी साफ और शांत होता है, जो पर्यटकों को तैराकी और अन्य जल क्रीड़ाओं के लिए आकर्षित करता है। इसके अलावा, यह स्थान पिकनिक और आराम के लिए भी आदर्श है। समुद्र तट के पास कई रेस्तरां और होटल भी हैं, जहां पर्यटक स्थानीय व्यंजनों का आनंद ले सकते हैं।

Amazon से सस्ते में travelling accessories खरीदें: link

14. रघुराजपुर (Raghurajpur)

Raghurajpur
Raghurajpur

रघुराजपुर ओडिशा का एक कला ग्राम है, जो अपनी पट्टचित्र चित्रकला और अन्य पारंपरिक कलाओं के लिए प्रसिद्ध है। यह गाँव पुरी के पास स्थित है और यहां के हर घर में कलाकार रहते हैं। यहां की कला और शिल्पकला पूरे विश्व में प्रसिद्ध है।

रघुराजपुर में पट्टचित्र के अलावा, तसर चित्रकला, पत्थर और लकड़ी की नक्काशी, और गोत्र चित्रकला भी की जाती है। यहां आने वाले पर्यटक स्थानीय कलाकारों से सीधे कलाकृतियाँ खरीद सकते हैं और उनकी कला को नजदीक से देख सकते हैं। यह स्थान कला प्रेमियों के लिए विशेष रूप से आकर्षक है।

यह भी देखे: The Ultimate Guide to Quick House Sale for Cash: Strategies, Tips, and Pitfalls to Avoid

15. गुप्तेश्वर गुफा मंदिर (Gupteshwar Cave Temple)

Gupteshwar-Cave-Temple
Gupteshwar-Cave-Temple

गुप्तेश्वर गुफा मंदिर भगवान शिव को समर्पित है और यह ओडिशा के कोरापुट जिले में स्थित है। यह मंदिर एक गुफा के अंदर स्थित है और यहां तक पहुंचने के लिए पर्यटकों को 200 सीढ़ियों की चढ़ाई करनी पड़ती है। यह स्थान अपनी प्राकृतिक सुंदरता और शांत वातावरण के लिए प्रसिद्ध है।

गुप्तेश्वर गुफा मंदिर के अंदर एक विशाल शिवलिंग है, जिसे गुप्तेश्वर के नाम से जाना जाता है। यह मंदिर हर साल महाशिवरात्रि पर विशेष रूप से जीवंत होता है, जब हजारों भक्त यहां पूजा करने आते हैं। इसके अलावा, यह स्थान ट्रेकिंग और प्रकृति प्रेमियों के लिए भी आकर्षण का केंद्र है।

उड़ीसा का मशहूर चीज क्या है?

उड़ीसा का मशहूर चीज है उसकी प्राचीन संस्कृति, विविधता से भरी खाद्य संस्कृति, सुंदर बागबानी, और विभिन्न प्रकार की शिल्पकला। यहाँ की ओडिशी नृत्य, कथा नृत्य, और चित्रकला भी विख्यात हैं। भगवान जगन्नाथ मंदिर Best Places to visit in Odisha की प्रमुख आकर्षण है, जो पूरे देश में प्रसिद्ध है। उड़ीसा की रसगुल्ला, चेना पोडा, मछली पकौड़ा, और ओडिशा का हथकरघा काम भी बहुत प्रसिद्ध हैं।

उड़ीसा की राष्ट्रीय मिठाई क्या है?

उड़ीसा की राष्ट्रीय मिठाई “रसगुल्ला” है। यह एक प्रसिद्ध भारतीय मिठाई है जिसे छाने के अंदर छाशनी (चाशनी) में गुलाब जल या केसर का पानी डालकर बनाया जाता है। रसगुल्ला को ठंडे पानी में परोसा जाता है और यह उड़ीसा की सांस्कृतिक विरासत का महत्वपूर्ण हिस्सा है।

ओडिशा का स्वर्ण त्रिभुज किसे कहा जाता है?

ओडिशा का स्वर्ण त्रिभुज, जिसे “रत्न त्रिभुज” भी कहा जाता है, एक महत्वपूर्ण पर्यटन स्थल है जो की BEST Places to visit in Odisha राज्य के संभाग में स्थित है। यह त्रिभुज भूगोलिक रूप से प्रशांत महासागर, महानदी नदी और बाय ऑफ बंगाल के सम्मुख बसा है। इसका नाम इसलिए है क्योंकि इसका आकार त्रिभुज के समान है, और इसे देखने के लिए उचित उचाई पर चढ़ाई की जा सकती है।

गोल्डन बीच ओडिशा कहां है?

गोल्डन बीच भारत में स्थित है और यह उत्कल के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। यह ओडिशा के पूर्वी किनारे पर स्थित है और सुंदर समुद्री तट के साथ एक सुप्रसिद्ध समुद्र तटीय पर्यटन स्थल है। यहाँ की सुंदर समुद्री तट, सफेद बालुका, और विभिन्न प्रकार के जल संग्रहणों के लिए प्रसिद्ध है।

ओडिशा में कितने समुद्र तट हैं?

BEST Places to visit in Odisha में तीन समुद्र तट हैं। Uttar Pradesh में स्थित, यह राज्य बंगाल की खाड़ी, बय ऑफ़ बंगाल, और अन्य उत्तरी समुद्र के साथ सम्बद्ध है।

Odisha family tour packages

BEST Places to visit in Odisha एक रोमांचक और प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर राज्य है, जिसमें विभिन्न पर्यटन स्थल, धार्मिक स्थल, और प्राचीन संस्कृति के प्रमुख केंद्र हैं। परिवार यात्रा पैकेज आमतौर पर परिवारों के लिए तैयार किए जाते हैं, जो उन्हें राज्य के प्रमुख आकर्षणों का आनंद लेने में मदद करते हैं। इन पैकेज में सामान्य रूप से होटल आवास, भोजन, पर्यटन स्थलों की यात्रा और स्थानीय यात्रा व्यवस्था शामिल होती है। ये पैकेज आमतौर पर टूर ऑपरेटर्स या यात्रा एजेंसियों द्वारा प्रदान किए जाते हैं, जो ग्राहकों को ओडिशा के सबसे प्रमुख स्थलों का दौरा कराने में मदद करते हैं।

Leave a Comment